रविवार, 5 अप्रैल 2020

सेवा सदन कॉलेज बुरहानपुर के उर्दू फारसी विभाग एवं उर्दू रिसर्च सेंटर एवं जामनेर वासियों की ओर से स्वर्गीय अब्दुल गफूर अंसारी बुरहानपुरी को पेश की गई श्रद्धांजलि*


बुरहानपुर (मेहलका अंसारी) सेवा सदन कॉलेज बुरहानपुर के उर्दू एवं फ़ारसी विभाग एवं उर्दू रिसर्च सेंटर एवं जामनेर वासियों की ओर से डाक्टर एस एम शकील ने  जमात ए  इस्लामी हिन्द, महाराष्ट्र के वरिष्ठ सदस्य एवं योग्य गुरु अब्दुल गफूर अंसारी बुरहानपुरी के निधन पर श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए बताया कि बुरहानपुर के साथ-साथ जामनेर से भी उनका बहुत गहरा संबंध रहा है । डाक्टर एसएम शकील बताया कि स्वर्गीय अंसारी ने 35 से 40 वर्ष तक शिक्षक कार्य से समाज निर्माण का कार्य किया है। डाक्टर एसएम शकील ने स्वर्गीय अंसारी के निधन पर कहा कि  उनके चले जाने से कौम और मिल्लत को एक अपूरणीय क्षति हुई है , जिसकी भरपाई असंभव प्रतीत होती है । सेवानिवृत्ति के बाद उन्होंने जामनेर की तौहीद मस्जिद में इमामत भी की है । डाक्टर एस एम शकील कहा कि उन्होंने दसवीं तक उन्हीं के मार्गदर्शन में शिक्षा ग्रहण कर यह स्थान प्राप्त किया है । अपनी पुरानी यादों को बताते हुए डॉक्टर एस एम शकील ने बताया कि सन 2017 में जब उनकी पुस्तक गंजे सर बस्ता का विमोचन कार्यक्रम था और उन्हें पता चला तो वह आमंत्रण की प्रतीक्षा किए बिना सीधे कार्यक्रम में पधार कर मुझे शुभाशीष प्रदान किया, जिसका मैं सदैव ऋणी रहूंगा। डॉक्टर एस एम  शकील ने एक ईश्वर से प्रार्थना की कि उन्हें करवट करवट जन्नत नसीब फरमाए, साथी उनके पुत्र एवं मेरे बाल सखा इक़बाल  आरिफ सहित पूरे परिवार को एक ईश्वर इस दुख को सहन करने की शक्ति प्रदान करें ।


कुल्हाडी मार कर अस्थिभंग करने के मामले में आरोपी को दो वर्ष की सजा और अर्थदण्ड

 छतरपुर- कुल्हाडी मार कर अस्थिभंग करने के मामले में कोर्ट ने फैसला दिया। बिजावर अपर सत्र न्यायाधीश की अदालत ने आरोपी को दो साल की कठोर कैद क...