रविवार, 12 अप्रैल 2020

शहरी स्तर पर समस्त स्वयंसेवी संस्थाएं संगठित होकर जनता की और बेहतर ढंग से सेवा कर सकते हैं: सामाजिक कार्यकर्ता अब्दुल मालिक सेठ मालेगाव वाले ने अपने विचार प्रकट किए


 बुरहानपुर (मेहलका अंसारी) नगर के सामाजिक कार्यकर्ता अलहाज अब्दुल मालिक सेठ मालेगाव वाले अपनी धार्मिक एवं सामाजिक सेवा के लिए अपना एक अलग स्थान रखते हैं। रिलीफ़ और इमदाद के कामों में बिना फोटो खिंचाए अपने काम को ईश्वर को समर्पित करने के लिए खामोशी के साथ हमेशा जारी रखते हैं । लाक डाउन अवधि में भी उन्होंने अपने स्तर से सेवाएं दी हैं । लाक डॉउन अवधि में बुरहानपुर की समस्त स्वयंसेवी संस्थाएं, जो जनता की सेवा में लगी हुई है, जैसे बैतूलमाल सोसाइटी, आजाद नगर रिलीफ कमेटी, ओन्ली मुस्ताहिक़ ग्रुप, शाह चमन वली सामाजिक संगठन, आसिफ भाई सुपर स्टील, रहमानी फाऊंडेशन, युवक कांग्रेस अध्यक्ष उबैद उल्लाह, खिदमत ए KHALQ ग्रुप, चंद्रकला एजुकेशन सोसाइटी, हेल्प फार नीडी ग्रुप, मदरसा असहाब-ए-सुफ्फा, अल्पसंख्यक विकास समिति, फेडरेशन अध्यक्ष ज्ञानेश्वर पाटिल, महापौर अनिल भोसले, सिंधी समाज की अमृतवेला ट्रस्ट सहित अनेक संगठन और व्यक्ति मिलकर इस अवधि में अपनी सेवाएं दे रहे हैं । मेरा मानना है कि अगर समस्त स्वयंसेवी संस्थाएं एक प्लेटफार्म पर, संगठित होकर, हमारे नगर के समस्त धार्मिक विद्वानों के मार्गदर्शन में एक रणनीति एवं मापदंड निर्धारित करके सहायताओं का वितरण करें तो पूरे शहर को उसी बजट में आसानी के साथ समस्त हितग्राहियों तक सहायता पहुंच सकती है । अल्हाज मालिक सेठ का विचार है कि बहुत सारे व्यक्ति एवं संगठन इस पुनीत कार्य को अंजाम तो दे रहे हैं किंतु यह सहायता बहुत से पात्र लोगों तक एवं बहुत सारे ऐसे लोग हैं जो सहायता के पात्र तो हैं लेकिन इसकी मांग नहीं कर रहे हैं, ऐसे लोगों तक सहायता नहीं पहुंच पा रही है । कई लोगों को अनेक संगठनों द्वारा कई बार सहायता मिल जा रही है । चुके शासन द्वारा समस्त हितग्राहियों के लिए अनाज की व्यवस्था कर दी गई है, अब अनाज के अतिरिक्त अन्य सामग्री की आवश्यकता है । इसलिए मेरा मानना है कि तमाम विचारधारा के लोग और समस्त धार्मिक विद्वान इस सिलसिले में समुचित पहल करके संगठित होकर अलग-अलग वार्ड  की जिम्मेदारी समन्वय से निर्धारित करके लॉक डाउन के अगले चरण में हम नगर की जनता की बेहतर तरीके से सेवा कर सकेंगे । उन्होंने समस्त दानदाताओं से इस पुनीत कार्य में बढ़-चढ़कर भाग लेने की अपील की है । इस अच्छी पहल पर विचार विमर्श किया जा सकता है ।


कुल्हाडी मार कर अस्थिभंग करने के मामले में आरोपी को दो वर्ष की सजा और अर्थदण्ड

 छतरपुर- कुल्हाडी मार कर अस्थिभंग करने के मामले में कोर्ट ने फैसला दिया। बिजावर अपर सत्र न्यायाधीश की अदालत ने आरोपी को दो साल की कठोर कैद क...