सोमवार, 4 मई 2020

आरोग्य सेतु ऐप, नागरिकों की गोपनीयता को करता है भंग:एसडीपीआई


बुरहानपुर/दिल्ली (मेहलक़ा अंसारी) सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी ऑफ इंडिया (SDPI) के राष्ट्रीय महासचिव अब्दुल मजीद  ने कहा कि केंद्र सरकार ने Covid19 प्रचार-प्रसार की पृष्ठभूमि में केंद्र सरकार ने जो संपर्क ट्रेसिंग ऐप पेश किया है, वह नागरिकों की गोपनीयता को प्रभावित करता है।  केंद्र सरकार द्वारा 2 अप्रैल को इलेक्ट्रॉनिक्स और आईटी मंत्रालय के सहयोग से ऐप जारी किया गया था।  यह ऐप उपयोगकर्ता ब्लू टूथ के स्थान का उपयोग करके काम करता है। इस एप के जरिए नागरिक को हमेशा निगरानी में रखा जाता है।  इस ऐप का खतरा यह है कि यह  निजी हस्तक्षेप सहित नागरिक की किसी भी गतिविधि का उपयोग करने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। यह  ऐप केंद्र सरकार के साथ हर उस व्यक्ति का डेटा साझा करता है जिसने इसे अपने मोबाइल में डाउनलोड किया है।  आरोग्य सेतू एप के माध्यम से व्यक्तिगत डेटा जैसे नाम, लिंग, आयु, व्यवसाय, जिन स्थानों पर यात्रा की गई है, उनका विवरण आदि पंजीकरण के लिए प्रदान किया जाता है।  जो कि यह व्यक्ति का नीजी और व्यक्तिगत मामला है ।इसके अलावा, इस एप में व्यक्ति का स्वास्थ्य इतिहास भी प्रदान किया जाता है।  शुरुआत में नागरिक द्वारा स्वेच्छा से उपयोग किए जाने वाले ऐप को बाद में केंद्र सरकार द्वारा सभी के लिए अनिवार्य कर दिया गया था।  केंद्र ने यह स्पष्ट कर दिया है कि कंपनी के प्रमुख को जिम्मेदार ठहराया जाएगा यदि उसके सभी कर्मचारी अपने फोन पर इस ऐप का उपयोग नहीं करते पाए जाते हैं।  इसके अलावा, यह एक निजी ऑपरेटर के उच्च डेटा सुरक्षा मुद्दे को प्रभावित करता है, जिससे इस ऐप को स्रोत बनाया जा सके, जिसके माध्यम से नागरिकों को बिना उनकी जानकारी के पता लगाया जा सके। अब्दुल मजीद ने मांग की कि यह ऐप नागरिक की गोपनीयता को कैप्चर और विपणन करता है, और जो नागरिक को पूर्ण निगरानी में रखता है। श्री मजीद ने सरकार से इस एप को तुरंत वापस लिया जाने की मांग की है। तथा विभिन्न राजनीतिक, सामाजिक और नागरिक अधिकार संगठनों को इस ऐप के खिलाफ आवाज़ उठाने की अपील की है।


कुपोषित बच्चों को खिलाया पोष्टिक आहार, बताया महत्व

बुरहानपुर। शहर के आलमगंज सेक्टर के अंतर्गत सिंधीपुरा आंगनवाड़ी केंद्र 4 पर बाल भोज कराया गया। कार्यकर्ता मंजू सिंह ठाकुर ने बताया गुरुवार को...