शुक्रवार, 29 मई 2020

अधिवक्ता हनीफ शेख ने 1 माह के कर्फ्यू पर उठाए सवाल? जनप्रतिनिधियों को आवाज उठाने की आवश्यकता


बुरहानपुर(मेहलका अंसारी) लगभग 70 दिवस के लाक डाउन एवं 1 माह के कर्फ्यू से जनता सहित सभी लोग त्रस्त हो चुके हैं । काम धंधे बंद होने से लोगों के सामने रोजी रोजगार का संकट बना हुआ है। इस मामले में बुद्धिजीवी वर्ग भी अपने ढंग से आवाज उठा रहा है। अधिवक्ता हनीफ़ शेख ने भी इस मामले पर अपनी बात रखी है उन्होंने कहा कि अन्य जिलों में मरीज ज्यादा है बुरहानपुर से, फिर भी वहां बाजार खोले गए हैं, काम धंधे चालू किए गए हैं लेकिन बुरहानपुर में जिला प्रशासन एक माह से कर्फ्यू ही चला रहा है । शासकीय अधिवक्ता श्री सुनील कुरील ने अपनी बात रखते हुए कहा कि आपके शहर के जनप्रतिनिधियों को शहर वासियों की समस्या शासन के समक्ष प्रस्तुत करना चाहिए । हमारे विधायक जी को आगे आना चाहिए। अल्पसंख्यक भाजपा नेता, सामाजिक कार्यकर्ता एवं शायर उस्ताद लतीफ शाहिद ने कहा कि प्रदेश के तमाम विधायक अपनी-अपनी विधानसभा में जनता की सेवा कर रहे हैं सबसे ज्यादा पावरलूम बुनकरों ने विधायक जी को जिताने में हिस्सा लिया मगर आज पावरलूम बुनकरों को बेसहारा छोड़ दिया गया है।प्रशासन/मास्टर विवर्स ने भी पावरलूम बुनकरों को बेसहारा छोड़ दिया है। विजय मेढ़े ने कहा कि जनप्रतिनिधि सिर्फ चुनाव के समय नजर आते हैं उसके पूर्व जनता के हित, अहित, सुख दुख समस्या समाधान की कोई चिंता नहीं है 100 में से 80 बेईमान फिर भी मेरा देश महान। कुल मिलाकर सभी की मंशा यही है कि कर्फ्यू हटना चाहिए, लाक डाउन खुलना चाहिए, जीवन सामान्य रूप से चलना चाहिए एवं सभी लोग रोजी रोजगार से जुड़ जाए यही सब की मंशा है। प्रशासन भी इस पहलू को ध्यान में रखते हुए जनहित में कोई बेहतर रास्ता निकालें। क्योंकि जनता लाक डाउन, कर्फ्यू, एरिया सील करना आदि से परेशान हो चुकी है और अब इससे मुक्ति चाहती है।


आदिम जाति सेवा सहकारी संस्था रम्भापुर में संचालकों के चुनाव के बाद निविरोध चुने गए अध्यक्ष, उपाध्यक्ष एवं अन्य संस्था के प्रतिनिधि* *रम्भापुर सोसाइटी के अध्यक्ष बने कमलसिंह हाडा (भुंडीया )*

*ब्युरो दशरथ सिंह कट्ठा झाबुआ...9685952025* झाबुआ - जिलें के मेघनगर के ग्राम रम्भापुर में आदिम जाति सेवा सहकारी संस्था के संचालको के चुनाव 2...