शनिवार, 9 मई 2020

मध्यप्रदेश शासन प्रवासी मजदूरों को बसों से पहुंचाने के दावे कर रहा ऐसे में हरदा जिले से पैदल यात्रा क्यों - आदित्य*

 
हरदा । लॉक डाउन की वजह से शहर के नागरिक एवं अन्य प्रदेशों एवं जिलों के प्रवासी मजदूर कई तरह की परेशानियां झेल रहे हैं
लोगों की परेशानियों को देखते हुए शहर के समाज सेवी आगे आए और जिससे जो बन पड़ा वह किया, नगर की पालक संस्था होने के नाते नगर पालिका एवं प्रथम नागरिक सुरेंद्र जैन की सबसे ज्यादा जिम्मेदारी ऐसे समय में बनती है नगर पालिका के कर्मचारी विपरित परिस्थिति में जी जान से मेहनत कर रहे हैं। वहीं दूसरी ओर नगर पालिका अध्यक्ष सुरेंद्र जैन पहले दिन से ही अपनी चिर परिचित शैली में सिर्फ सुर्खियां बनाने में लगे है इस आशय का पत्र  जैन को कांग्रेस प्रवक्ता आदित्य गार्गव ने लिखा है अपने पत्र में उन्होंने आगे कहा है कि आप काम कम और नौटंकी ज्यादा कर रहे हैं अब जब हरदा से सैकड़ों की संख्या में प्रवासी मजदूर हर दिन पैदल और साइकिल से निकल रहे हैं तो नगर पालिका अध्यक्ष प्रवासी मजदूरों को पुरानी साइकिल इकट्ठा करके मजदूरों को दे के वाह वाही लूटने में लगे हैं इसमें भी उनका हिसाब किताब भी आ गया है कि मजदूर अपने गंतव्य पर पहुंचकर इन पुरानी साइक्लो की कीमत अदा करेंगे ।आदित्य गार्गव,
प्रवक्ता जिला कांग्रेस, हरदा ने नपाध्यक्ष से सवाल किया है कि कि जब मध्यप्रदेश शासन प्रवासी मजदूरों को बसों से पहुंचाने के दावे कर रहा है तो आपके क्षेत्र से मजदूरों को क्यों पैदल जाना पड़ रहा है अभी तक मजदूरों को बसों से भेजने के प्रयास करने के बजाए आप चार पुरानी साइकिल बांट कर वाहवाही लूटने में लगे हैं।           
वर्तमान समय में जब शहर की सभी संस्थाएं निशुल्क भोजन दे रही हैं तो ऐसे समय में भी आपके नियंत्रण वाली दीनदयाल रसोई शुल्क लेकर जरूरतमंद लोगों को भोजन दे रही है जबकि आपने इसके नाम पर काफी मात्रा में अनाज एवं राशि एकत्रित की है पूर्व में भी आपने लोगों से दान लिए गए अनाज को मोदी किट के नाम से लोगों के बीच बाटा है इसी तरह से शहर में आपने 32 लाख के सीसीटीवी कैमरे इस बात के लिए लगाए हैं कि कोई व्यक्ति अगर शहर में कहीं थूकता  हुआ पाया गया तो नगर पालिका उस पर जुर्माना लगा सके लेकिन इतने दिनों के बाद भी आज तक कोई व्यक्ति कैमरे की नजर में नहीं आ सका यह बेहद हास्यास्पद है कि नगर पालिका के पास लोगों को थूकने से पकड़ने के लिए कैमरे लगाने के 32 लाख  रुपए तो हैं लेकिन गरीब और भूखे मजदूरों के लिए पैसे नहीं है उसके लिए नगर पालिका अध्यक्ष लोगों से चंदा करते फिर रहे हैं पत्र के माध्यम से मैं आपसे कहना चाहता हूं कि इस मानवीय संकट के दौर में परिस्थितियों की गंभीरता को देखते हुए ओछी राजनीति करने की बजाय ऐसे काम करें जिससे लोगों को वास्तविक राहत मिल सकें ।
हरदा से मुईन अख्तर खान


नकली दस्तावेजों के आधार पर जमीन बेचने वाले को न्यायालय ने दिया पाक 5 वर्ष का सश्रम कारावास

 अतिरिक्त‍ लोक अभियोजक श्री सुनील कुरील अभियोजित एक महत्वपूर्ण प्रकरण में मा. अपर सत्र न्यायाधीश श्री आर.के.पाटीदार बुरहानपुर द्वारा आरोपीगण...