गुरुवार, 21 मई 2020

नीमच विधायक पुत्र द्वारा की गई हत्या में निष्पक्ष जांच करने व आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज करने हेतु एसडीपीआई के प्रदेश अध्यक्ष ने मध्य प्रदेश के डीजीपी सहित पुलिस अधिकारियों को लिखा पत्र*


बुरहानपुर (मेहलक़ा अंसारी) मध्य प्रदेश के नीमच सिटी के विधायक पुत्र द्वारा एक परिवार के सदस्य की हत्या की घटना की निष्पक्ष जांच करने और इस कृत्य को अंजाम देने वाले आरोपियों के विरुद्ध मामला दर्ज करने हेतु सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी ऑफ इंडिया ( एसडीपीआई पार्टी) के प्रदेश अध्यक्ष इरफान उल हक अंसारी (जबलपुर) ने मध्य प्रदेश के डीजीपी सहित पुलिस अधिकारियों को शिकायत भेजी है। एसडीपीआई के प्रदेश अध्यक्ष इरफान उल हक़ अंसारी जबलपुर ने बताया कि माधवगंज मोहल्ला नीमच सिटी में दिनांक 16/05/2020 को मुस्लिम परिवार के एक सदस्य मोहम्मद आसिफ की यश परिहार और विक्रम सिंह उर्फ वी पी सिंह ने गोली मारकर हत्या कर दी है। विदित हो कि यश परिहार बीजेपी विधायक दिलीप सिंह परिहार का लड़का है तथा विक्रम सिंह उर्फ वीपी सिंह पिता विजय सिंह विधायक दिलीप सिंह का रिश्तेदार है। उक्त दोनों व्यक्ति पिछले काफी समय से मृतक के परिवार की महिलाओं के साथ छेड़छाड़ और अश्लील हरकतें करते आ रहे हैं। घटना दिनांक को भी उक्त दोनों आरोपियों व उसके साथ चार पांच अन्य लोगों ने मृतक के परिजनों को गाली गलौज की व जान से मारने हेतु हथियारों से लैस होकर हमला कर दिया जिसमें आसिफ को गोली लगने से मौके पर ही मौत हो गई। घटना के मुख्य आरोपी विधायक पुत्र यश परिहार और विक्रम सिंह फरार हैं। नीमच पुलिस ने फरार आरोपियों की सूचना देने वाले को दस हज़ार रुपए का इनाम भी घोषित किया है। परंतु घटना के मुख्य आरोपी अभी तक पुलिस की गिरफ्त में नहीं हैं। वहीं विधायक दिलीप सिंह परिहार इस पूरे मामले को राजनैतिक रंग देने में लगे हैं । नीमच थाना प्रभारी पर दबाव बनाया जा रहा है कि वह यश परिहार और विक्रम सिंह को गिरफतार न करें। जैसा कि आप जानते हैं वर्तमान में लाकडाउन के कारण शहर की सीमाएं सील हैं। उसपर आरोपियों का पुलिस की गिरफ्त में न आना तथा पुलिस द्वारा उन्हें गिरफ्तार न करना सारे घटनाक्रम पर सवालिया निशान लगाता है। विधायक दिलीप सिंह परिहार और यश परिहार नीमच शहर की शांति भंग करना चाहते हैं और क्षेत्र में साम्प्रदायिक दंगा कराना चाहते हैं। इरफान उल हक़ अंसारी ने डी जी पी से निम्नलिखित कार्यवाही का निवेदन किया है : - (1) यश परिहार पिता दिलीप सिंह परिहार तथा विक्रम सिंह उर्फ वीपी सिंह पिता विजय सिंह का नाम प्रथम सूचना रिपोर्ट में सम्मिलित किया जाए तथा दोनों आरोपियों को तत्काल गिरफ्तार किया जाए। (2) विधायक दिलीप सिंह परिहार के द्वारा आज भी मृतक के परिवार को धमकियां दी जा रही है और प्रकरण वापस लेने का दबाव बनाया जा रहा है। (3) मृतक के परिवार को क्षतिपूर्ति हेतु 25,00,000/-पच्चीस लाख रुपए मुआवजा दिया जाए। श्री इरफान उल हक़ अंसारी ने उक्त पत्र की प्रतिलिपि मुख्य सचिव मध्यप्रदेश शासन भोपाल, एसपी नीमच, पुलिस महानिरीक्षक उज्जैन ज़ोन एवं उप-पुलिस महानिरीक्षक रतलाम जोन को प्रेषित की है।


कुल्हाडी मार कर अस्थिभंग करने के मामले में आरोपी को दो वर्ष की सजा और अर्थदण्ड

 छतरपुर- कुल्हाडी मार कर अस्थिभंग करने के मामले में कोर्ट ने फैसला दिया। बिजावर अपर सत्र न्यायाधीश की अदालत ने आरोपी को दो साल की कठोर कैद क...