बुधवार, 24 जून 2020

बुरहानपुर जिले में आयुष डॉक्टरों को क्यों नहीं मिल रही है अनुमति?

बुरहानपुर (मेहलक़ा अंसारी) कलेक्टर बुरहानपुर श्री प्रवीण सिंह, जहां बुरहानपुर की रफ्तार को पूर्व अनुसार लाने के प्रयास में सफल हुए हैं, वही सत्ता पक्ष और विपक्ष के नेताओं के द्वारा ज़िले के आयुष दवाखानों को शर्तों के अधीन खोलने की अनुमति प्रदान करने की मांग किए जाने के उपरांत भी उनकी तवज्जो इस ओर क्यों नहीं हो रही है। जबकि इस मामले में भोपाल के यूनानी चिकित्सा बोर्ड ने भी अनुमति देने की अनुशंसा की है। बुरहानपुर के कलेक्टर एक बेहद संजीदा, खुशमिजाज और ख़ुश फ़िक्र होने के उपरांत भी उनके द्वारा इस समस्या के निराकरण की ओर उनका समुचित ध्यान नहीं होने से गरीब जनता पर्याप्त चिकित्सीय सुविधाओं से लंबे समय से वंचित है। गरीब वंचित जनता अपने पुराने विश्वसनीय डॉक्टरों से ही इलाज कराने में विश्वास करती है और उसका यह विश्वास बरसों पुराना है। प्राचीन कहावत है कि जिस डाक्टर पर जनता को भरोसा है वह डाक्टर अगर मिट्टी या राख उठाकर भी दे दे तो मरीज को लाभ होगा।अधिकांश जनता को शासकीय इलाज और शासकीय फीवर क्लीनिक पर अभी भी विश्वास नहीं है। आयुष डॉक्टरों को अनुमति नहीं दिए जाने से ऐसा महसूस होता है कि कलेक्टर बुरहानपुर किसी शक्तिशाली लॉबी या संस्थान के दबाव में हैं और अपने क्षेत्र के सांसद, पूर्व कैबिनेट मंत्री सहित बुरहानपुर के नेताओं की बात और उनकी मांग को वह खातिर में नहीं ला रहे हैं। बुरहानपुर की जनता के व्यापक हित में आयुष दवाखाने खोलने की अनुमति देने पर विचार करना अत्यंत आवश्यक है जिस पर कलेक्टर बुरहानपुर को संज्ञान लेना चाहिए।


कुपोषित बच्चों को खिलाया पोष्टिक आहार, बताया महत्व

बुरहानपुर। शहर के आलमगंज सेक्टर के अंतर्गत सिंधीपुरा आंगनवाड़ी केंद्र 4 पर बाल भोज कराया गया। कार्यकर्ता मंजू सिंह ठाकुर ने बताया गुरुवार को...