सोमवार, 15 जून 2020

मंडी सचिव की लापरवाही से हो सकता है कोरोना.... नहीं हो रहा है सोशल डिस्टेंट का पालन.

टिमरनी - कोरोना से वचाव हेतु लॉक डाउन व नियमों का पालन करना अनिवार्य है और रोजाना एसडीएम तहसीलदार और पुलिस विभाग के द्वारा मार्केट में जाकर लोगों को समझाएं दी जाती है कि प्रशासन लॉक डाउन में छूट दे रहा है परंतु कृषि उपज मंडी टिमरनी में मंडी सेक्रेटरी की लापरवाही का हरजाना आम जनता को भुगतना पड़ेगा इन दिनों मंडी में मूंग की बंपर आवक होने के कारण दूर दराज से ग्रामीण क्षेत्रों से किसान अपनी उपज ट्रैक्टर ट्राली से लाकर कृषि उपज मंडी में बेच रहे हैं एक और तो शासन प्रशासन सोशल डिस्टेंस और मास्क लगाने की बात कह रहा है और दूसरी ओर टिमरनी कि कृषि उपज मंडी में तो सारे नियम ताक पर रखकर सरेआम नियमों का उल्लंघन कर रहे हैं जिले के जिम्मेदार अधिकारी जिला कलेक्टर और एसडीएम के द्वारा समझाइस दी जा रही है कि मुंह पर मार्क्स लगाकर रखे और दूरी बनाएं परंतु टिमरनी मंडी में तो नियम कानून ताक पर रखकर इन नियमों की धज्जियां उड़ाई जा रही है ज्ञात हो कि जिले में 16 कोरोना के मरीज होने के बावजूद भी शासन प्रशासन के जिम्मेदार अधिकारी इस ओर ध्यान नहीं दे रहे हैं और ना ही आम जनता ध्यान दे रही है इसका हर्जाना पूरा हरदा जिले को उठाना पड़ेगा जिस प्रकार से कृषि उपज मंडी टिमरनी में अधिकारी कर्मचारियों की लापरवाही 1 दिन बड़ा रूप ले सकती है इस छूट का मतलब नहीं समझ रही है। जिन्हें समझाने के लिए शासन प्रशासन व सामाजिक लोग दिन रात महनत कर रहे हैं। परंतु लॉक डाउन में कुछ छूट से उपजे हालात के मद्धेनजर शासन प्रशासन के जिम्मेदार अधिकारियों पर कुछ ज्यादा जबाबदारियां होनी चाहिए। यदि ये जबाबदारी सही ढंग से नहीं निभाई गईं तो क्षेत्र कोरोना पॉजेव्टिव की संख्या बढ़ सकती है और फिर स्थिती संभालने में भारी मशक्कत करनी पड़ सकती है। इसलिए अब देखना है कि जिले के वरिष्ठ अधिकारी इस और क्या ध्यान देते हैं जिले के कलेक्टर महोदय एवं एसपी महोदय के द्वारा भी रोजाना क्षेत्रों का भ्रमण किया जाता है


इनका कहना हमारे द्वारा संबंधित विभागों को लेटर जारी किया गया है कि सोशल डिस्टेंस या मार्क्स नहीं लगाते हैं तो संबंधित विभाग उसके जवाबदार होंगे अंकिता त्रिपाठी एस डी एम टिमरनी


कुल्हाडी मार कर अस्थिभंग करने के मामले में आरोपी को दो वर्ष की सजा और अर्थदण्ड

 छतरपुर- कुल्हाडी मार कर अस्थिभंग करने के मामले में कोर्ट ने फैसला दिया। बिजावर अपर सत्र न्यायाधीश की अदालत ने आरोपी को दो साल की कठोर कैद क...