शुक्रवार, 18 दिसंबर 2020

अध्यक्ष पद के लिए सामान्य वर्ग से भाजपा नेता लगा रहे जोर अजमाईश, पेश कर रहे दावेदारी*


खिरकिया। नगरीय निकाय चुनाव को लेकर जैसे जैसे समय करीब आता जा रहा है, वैसे वैसे ही अध्यक्ष पद के लिए दावेदारो के नाम उभरकर सामने आ रहे है। इस बार नगरीय निकाय अनारक्षित मुक्त होने के कारण सामान्य वर्ग से आने वाले नेताओं द्वारा अपनी जमकर दावेदारी की जा रही है। भारतीय जनता पार्टी में ऐसे कई नेता मौजूद है, जो अध्यक्ष पद के लिए दम खम और नगर में अपना अलग रूतबा रखते है। अब वे पार्टी संगठन के सामने अपनी दावेदारी पेश कर रहे है, यदि पार्टी उन पर विश्वास जताती है, तो वे अपनी जीत सुनिश्चित करने के लिए जी तोड़ मेहनत करने की बात कह रहे है। यू ंतो भाजपा में सामान्य वर्ग से आने वाले कई नेता है, लेकिन उनमें प्रमुख दावेदार नगर में चर्चित है।

1 जयंत नागड़ा

 नागड़ा की दमदार दावेदारी 

जयंत नागड़ा का व्यक्तित्व मिलनसार और सक्रिय भाजपा पदाधिकारी व कार्यकर्ता के तौर पर जाना जाता है। पूर्व में यह जपं उपाध्यक्ष रह चुके है, वही वर्तमान में भाजपा के जिला कोषाध्यक्ष है। 3 बार विधानसभा चुनाव में सह प्रभारी रह चुके है। नगरीय निकाय चुनाव में जिला संयोजक भी रह चुके है। ज्योति धुर्वे के कार्यकाल में सांसद प्रतिनिधि भी रहे है। उनकी दावेदारी दमदार मानी जा रही है। 

2 भरत हेड़ा

भरत हेड़ा की भी दावेदारी पर जोरदार 

शहर में बड़े व्यवसायी के साथ साथ भाजपा के सक्रिय सदस्य है। नवदुर्गा उत्सव कार्यक्रम के साथ साथ समय समय पर सामाजिक कार्यो में उनकी सक्रियता होने के कारण नागरिको के बीच अच्छी पकड़ है। 1977 में भाजपा की सदस्यता लेने के बाद से ही भाजपा के सच्चे सिपाही के तौर पर जाने जाते है। पूर्व में विधायक कमल पटेल एवं स्व. बद्रीनारायण अग्रवाल के कार्यकाल में विधायक प्रतिनिधि भी रह चुके है। आपातकाल के समय इनके पिताजी द्वारा अपने निजी भवन में भाजपा का कार्यालय भी खुलवाया था।

 3 शंकर खरवड़िया

शंकरसिंह खरबड़िया के नाम भी हो सकती है अध्यक्ष टिकट 

नगर भाजपा में सामान्य वर्ग से आने वाले छीपाबड़ के शंकरसिंह खरबड़िया भी एक बड़ा नाम है। हंसमुख, मिलनसार और सभी को साधकर रखने का गुण उन्हे पार्टी और नागरिको के बीच अलग पहचान दिलाता है। पूर्व में मंडल अध्यक्ष भी रह चुके है। जिससे पार्टी पदाधिकारी और कार्यकर्ताओ के बीच उनकी पकड़ है। कृषि मंत्री कमल पटेल के करीबी माने जाते है। नगर में सामान्य वर्ग के वोट बैंक को देखा जाए तो जातिगत समीकरण से उनका टिकट फिट बैठता है। इसलिए वह भी प्रबल दावेदार माने जा रहे है। 

4 गोलू अग्रवाल 

गोलू अग्रवाल पूर्व में पार्षद रह चुके है। वही भाजपा के सक्रिय सदस्य है। उनके द्वारा भी इस चुनाव में दावेदारी जतायी जा रही है। नागरिको के बीच उनकी अच्छी पहचान है। 

5 विनय राजपूत

भाजपा कार्यकर्ता के सक्रिय सदस्य के तौर पर उन्हे नगर में पहचाना जाता है। पार्टी के जमीनी कार्यकर्ता होकर वे अपनी विशेष पहचान रखते है। सामाजिक कार्यो मंे भी अग्रणी रहते है। खंडवा सांसद व पूर्व प्रदेशाध्यक्ष नंदकुमार सिंह चैहान के काफी करीबी माने जाते है। 

6 रवीन्द्र दुआ 

रवीन्द्र दुआ भाजपा के सक्रिय कार्यकर्ता है और युवाओं में अपनी अच्छी पैंठ रखते हैं। पार्टी के कार्यक्रमो में वे विशेष सहभागिता निभाते है इस विधानसभा चुनाव में कांग्रेसी बाहुल्य वार्ड 5 से भी उनकी मेहनत से भाजपा को लीड मिली थी वे कृषि मंत्री कमल पटेल के कट्टर समर्थक है। कृषि मंत्री के नेतृत्व में कई कार्यक्रमो का आयोजन कर चुके है। ऐसे में अब वे भी दावेदारी कर रहे है, उन्हे टिकट मिलता है, तो वे छुपे रूस्तम हो सकते है।