बुधवार, 23 दिसंबर 2020

किसान दिवस पर पूर्व मंत्री श्रीमती अर्चना चिटनिस ने किसानों से कर किया सम्मान* *खेतों में पुरुषों से ज्यादा काम करती हैं महिलाएं-पूर्व मंत्री श्रीमती अर्चना चिटनिस*



बुरहानपुर। बुधवार को ग्राम खामनी में किसान दिवस के अवसर पर एक्शन अगेन्स्ट हेंगर एवं किसान कल्याण तथा कृषि विकास विभाग द्वारा किसान-भ्रमण कार्यक्रम अंतर्गत कार्यक्रम आयोजित किया गया। इसमें मुख्य अतिथि के रूप में मध्यप्रदेश की पूर्व कैबिनेट मंत्री श्रीमती अर्चना चिटनिस (दीदी) ने सम्मिलित होकर कृषकों को किसान दिवस की शुभकामनएं प्रेेषित कर उनसे संवाद किया। इस अवसर पर किसानों को पुष्पमालाओं से स्वागत-अभिनंदन कर सम्मान भी किया।


इस अवसर पर कृषकों को संबोधित करते हुए पूर्व मंत्री श्रीमती अर्चना चिटनिस ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी 21वीं सदी की जरूरतों के मुताबिक कृषि सुधार करने और किसानों को आत्मनिर्भर बनाने की कोशिश कर रहे हैं। इससे किसानों में नया आत्मविश्वास पैदा हुआ है। जहां मन आ रहा है, वहां अपनी उपज बेच रहे हैं। अब किसी बिचौलिए का मोहताज नहीं है। बिचौलिए खत्म होने और व्यापारियों की खेतों तक पहुंच सुनिश्चित होने से किसानों को उत्पादों की पूरी कीमत मिल रही है। आज मंडी से बाहर सौदों को कानूनी संरक्षण मिलने से किसान बिना किसी डर के व्यापारियों को अपनी उपज बेच रहे हैं और मुनाफा कमा रहे हैं। आमदनी बढ़ने से किसान जहां खेतों में अधिक निवेश कर रहे हैं, वहीं उनके जीवन स्तर में भी सुधार हो रहा है। मोदी सरकार में किसान स्वतंत्र होकर नए अवसरों और विकल्पों का लाभ उठा रहे हैं।


श्रीमती चिटनिस ने कहा कि तीन नए कृषि कानूनों से देश में ‘एक राष्ट्र, एक कृषि बाजार’ का मार्ग प्रशस्त हुआ। नए कृषि कानून में किए गए नए प्रावधानों से किसानों की आढ़तियों पर निर्भरता खत्म हो गई है। नए कृषि कानून के तहत किसानों को अब कहीं भी अपनी उपज को बेहतर कीमत पर बेचने की आजादी मिली। किसानों को कॉमन सर्विस सेंटर के डिजिटल प्लेटफॉर्म के माध्यम से अपनी फसल को मंडी से बाहर बेचने में मदद मिल रही है। देश में पहले उत्पादकता बढ़ाने पर जोर होता था, अब किसान की आय बढ़ाने और उद्यमी बनाने के प्रयास किए जा रहे हैं। पहले मंडी में सिर्फ आढ़तियों को व्यापार की अनुमति थी, लेकिन नया कृषि कानून किसी को भी पैन नंबर के साथ व्यापार की अनुमति देता है। नए कृषि कानूनों के तहत मंडी से बाहर हुए सौदों को कानूनी संरक्षण मिला है। अब छोटे किसान भी कानूनी कार्रवाई कर सकते हैं। अब बाजार स्वयं छोटे-छोटे किसानों के दरवाजे तक पहुंच रहा है, जिससे किसानों को माल ढुलाई और परिवहन पर खर्च नहीं करना पड़ रहा है। एमएसपी पर पंजाब, हरियाणा समेत पूरे देश में रिकॉर्ड 86 लाख मीट्रिक टन धान खरीदा गया।


पूर्व मंत्री श्रीमती अर्चना चिटनिस ने कहा कि किसान दिवस पर पुरूष किसानों की चर्चाएं होती हैं। जबकि, चर्चाओं की हकदार महिला किसान भी हैं। खेती के कामों में दिया जाने वाले उनके नियमित योगदान को कमत्तर आंका जाता है। महिलाएं घरों का काम निपटाने के बाद वह खेतों में लग जाती हैं। 

इस अवसर पर ग्राम खामनी के कृषक सोपान कापसे द्वारा की जा रही जैविक खेती से उपस्थित कृषकों को विस्तारपूर्वक अवगत कराया गया और श्री सोपान के खेत का निरीक्षण कराकर जैविक खेती के महत्व को समझाया गया। श्रीमती चिटनिस के साथ सभी कृषकों ने पूजा, अर्चना कर मंत्रोच्चार के साथ पौधारोपण भी किया गया। 

ज्ञात हो कि एक्शन अगेन्स्ट हेंगर संस्था मध्यप्रदेश, गुजरात, महाराष्ट्र सहित अनेकों राज्यों में कुपोषण को कम करने हेतु विशेष रूप से कार्यक्रम आयोजित किए जाते है। इसी तारतम्य में महाराष्ट्र के धारणी से एक किसानों का दल द्वारा ग्राम खामनी में जैविक खेती कृषक सोपान कापसे के खेत का भ्रमण किया गया।

इस दौरान पर वीरेन्द्र तिवारी, वैभव महाजन, मनोहर देवके, श्रीकांत सोनवणे, विजय अमोदे, योगेश कापसे सहित कृषकगण उपस्थित रहे।



कुल्हाडी मार कर अस्थिभंग करने के मामले में आरोपी को दो वर्ष की सजा और अर्थदण्ड

 छतरपुर- कुल्हाडी मार कर अस्थिभंग करने के मामले में कोर्ट ने फैसला दिया। बिजावर अपर सत्र न्यायाधीश की अदालत ने आरोपी को दो साल की कठोर कैद क...