बुधवार, 8 अप्रैल 2020

कोरोना : शब-ए-बारात पर घरों में रहकर ही अदा करेंगे नमाज.... कोरोना को हराने के लिए  मुस्लिम समुदाय का जरूरी कदम......


हरदा । कोरोना वायरस के प्रकोप से पूरा देश परेशान है। ऐसे में 9 अप्रैल को शब-ए-बारात पर हरदा के इतिहास में पहली बार मस्जिदों में नमाज अदा नहीं की जाएगी।इस संबंध में सैयद नजाकत अली रज्वी खतीब व इमाम मुहम्मदी मस्जिद नाजिम ए आला दारुल उलूम नूरी खेडीपुरा हरदा मध्य प्रदेश ने जानकारी देते हुए बताया कि शबे बरात 09 अप्रैल बरोज जुमेरात शबे बरात 30 के चांद के हिसाब से 09 अप्रैल सन 2020 ईस्वी बरोज जुमेरात को मनाई जाएगी इंशाअल्लाह
सैय्यद नज़ाकत अली ने हरदा जिले के तमाम वाशिंदों से घरों में रहकर ही नमाज पढ़कर मुल्क की सलामती के लिए दुआएं करने की अपील की गई है।
शब-ए-बारात के 15 दिन बाद ही रमजान का बरकतों और रहमतों का महीना शुरू हो जाएगा। नज़ाकत अली ने अपील करते हुए कहा कि कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए सरकार ने सोशल डिस्टेंसिंग के पालन के निर्देश दिए हैं। लॉकडाउन में एक जगह ज्यादा लोग इकट्ठा नहीं हो सकते। लॉकडाउन लागू होने के बाद मस्जिदों मे सिर्फ पांच लोग ही वहां नमाज पढ़ सकते हैं।साथ ही जुमे पर भी सभी मस्जिदों में सिर्फ 3 से 5 लोग अजान के बाद नमाज अदा कर रहे हैं। हालांकि शब-ए-बारात से बहुत सी भावनाएं जुड़ी हैं, लेकिन जिस तरह की मौजूदा स्थिति है, उसमें सभी से गुजारिश है कि नियमों का पालन करें और लॉकडाउन में घरों पर ही रहकर नमाज अता करें। रात में कब्रिस्तान या मस्जिद में ना जाये ।यह जरूरी भी है क्योंकि कोरोना संक्रमण देश व दुनिया में तेजी से फैल रहा है आज जरूरत आपको हमको इस रोग से बचाने के लिए है इसलिए सरकार व्दारा जारी लॉकडाऊन का पालन किजिये । 
हरदा जिले से मुईन अख्तर खान


कुल्हाडी मार कर अस्थिभंग करने के मामले में आरोपी को दो वर्ष की सजा और अर्थदण्ड

 छतरपुर- कुल्हाडी मार कर अस्थिभंग करने के मामले में कोर्ट ने फैसला दिया। बिजावर अपर सत्र न्यायाधीश की अदालत ने आरोपी को दो साल की कठोर कैद क...