मंगलवार, 21 अप्रैल 2020

लाकडाउन के नियमो का पालन करते हुए घरो में करे रमजान में इबादत  उल्माओ के निर्णय पर जामा मस्जिद सदर ने समाजजनो को दिया पैगाम 


खिरकिया। मुस्लिम समुदाय का पवित्र रमजान माह 25 अप्रैल से प्रारंभ होगा। यह पहली बार होगा, जब रमजान माह में मस्जिदो में नही पहुंच सकेंगे। लाकडाउन के चलते मुुस्लिम धर्मगुरूओं ने मस्जिदो में की जाने वाली सभी इबादत घरो में किए जाने का निर्णय लिया है। नगर की प्राचीन जामा मस्जिद के सदर मो. इस्माईल ने शहर मुस्लिम समाज के नाम पत्र लिखते हुए रमजान माह में इबादत एवं लाकडाउन के नियमो के पालन करने अपील की है। जिसमें उन्होने समाजजनो से कहा कि फर्ज नमाजो की तरह तरावीह की नमाज घरो में अदा करें। जुम्मे के दिन घरो में जौहर की नमाज अदा करें। किसी प्रकार से रोजा इफ्तार की पार्टी या दावत न करें। लाकडाउन में शासन प्रषासन की ओर से जो पाबंदी लगायी गई है, उसका पूर्णतः पालन करें। अपने घरो में रहते देष के अमन के लिए दुआऐं करें। घरो और मोळललो में साफ सफाई को विषेष ख्याल करें। समाजजनो को समझाइस देते हुए कहा कि सभी डाक्टर्स, नर्स, पुलिस व प्रषासन तमाम लोग अपनी जान की परवाह किए बगैर इंसानियत बचाने की कोषिष कर रहे है, हम सभी लोग उनका आभार व्यक्त करें। ऐसा कोई भी कार्य न करे तो शासन प्रषासन के नियमो के विरूद्ध हो। सभी लाकडाउन के नियमो का पालन करते हुए अपनी धर्म व शरियत के अनुसार अपने घरो में रमजान माह में इबादत करें। 


 


फोटो। जामा मस्जिद सदर मो. इस्माईल


देवा शरीफ यूपी के भारत प्रसिद्ध आध्यात्मिक गुरु का आज शुक्रवार को बुरहानपुर आगमन*।

          बुरहानपुर(मेहलका इकबाल अंसारी) भारतीय खानकाही व्यवस्था की अति विश्वसनीय रूहानी शख्सियत, देवा शरीफ यूपी, मुंबई महाराष्ट्र और बुरहान...