रविवार, 5 अप्रैल 2020

मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह  चौहान को किसानों की समस्याओं के समाधान हेतु पूर्व मंत्री अर्चना दीदी ने लिखे पत्र*


 बुरहानपुर(मेहलका अंसारी) मध्यप्रदेश की पूर्व कैबिनेट मंत्री श्रीमती अर्चना चिटनिस (दीदी) ने मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान सहित उच्चाधिकारियों व संबंधित अधिकारियों को पत्र लिखकर कृषि और संबद्ध गतिविधियों को लॉकडाउन अवधि के दौरान छूट दिए जाने हेतु बात रखी है, जिससे इन छूटों सेे कृषि और खेती से संबंधित गतिविधियों को बिना किसी असुविधा के सुनिश्चित किया जा सकेगा, ताकि आवश्यक आपूर्ति सुनिश्चित की जा सके और किसानों को लॉकडाउन के दौरान किसी भी कठिनाई का सामना न करना पड़े़े। इसी के साथ दूसरे पत्र के माध्यम से श्रीमती चिटनिस ने रबी की फसल खरीदी के संबंध में दिशा-निर्देश जारी करने की बात कही।
 पत्र में श्रीमती अर्चना चिटनिस ने कहा कि बुरहानपुर जिला निमाड़ का कृषि प्रधान क्षेत्र है, यहां पर उद्यानिकी फसले बहुतायात में बोई जाती है। जिनमें समय-समय पर कीटनाषक दवाई, रासायनिक खाद, उन्नत बीज व कृषि उपकरण एवं जी.आय. पीवीसी पाईप, फिटिंग का उपयोग होता हैै। इसी प्रकार कृषि कार्य में लगने वाले उपकरणों जैसे ट्रेक्टर, ट्रक, मोटर पंप के पार्ट व रिपेरिंग हेतु संबंधित दुकानों के सेवाओं की आवश्यक्ता होती है। लॉकडाउन के चलते कृषि आदान, मशीनरी, उपकरण, रिपेरिंग सेवाओं की दुकाने बंद होने की वजह से उद्यानिकी की फसलों पर बुरा प्रभाव पड़ रहा है और फसलें खराब हो रही है। तत्संबंध में गृह सचिव भारत सरकार के संदर्भित पत्र एवं आदेश  का अवलोकन करावें। श्रीमती चिटनिस ने मुख्यमंत्री को लिखे पत्र में कहा कि कृषकों के हित में मर्यादित समय के लिए कृषि आदान की दुकाने निर्धारित दिशा -निर्देश के साथ खुलवाने हेतु आदेशित करने का कष्ट करें।
पूर्व मंत्री श्रीमती अर्चना चिटनिस (दीदी) ने दूसरे लिखे पत्र में कहा कि भारत वर्ष प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी एवं मुख्यमंत्री श्री शिव राज सिंह चौहान के नेतृत्व में कोरोनो वायरस से कुशालतापूर्वक लड़ रहा है। इस युद्ध में हमारी विजय सुनिष्चित है। श्रीमती चिटनिस ने कहा कि वर्तमान समय में रबी फसल गेहूं, चना, मक्का, इत्यादि लगभग तैयार होकर किसानों के आंगन में पहुंच चुकी है। लॉकडाउन के चलते किसान अपनी उपज मंडियों में बेचने में असमर्थ है। इस कठिन समय को दृष्टिगत रखते हुए श्रीमती चिटनिस ने सुझाव दिया है कि किसानों की रबी फसल उपज नगरीय क्षेत्र की मंडियों में ना बुलाकर प्रत्येक जिला पंचायत क्षेत्र स्तर पर एक केन्द्र बनाया जाए एवं उस स्थान पर रबी फसल की खरीदी सुनिष्चित की जाना चाहिए। श्रीमती चिटनिस ने कृषकों के हित में एवं उनकी आगामी फसल लगाने की तैयारियों को देखते हुए समुचित दिशा-निर्देश संबंधित विभाग को जारी करने की बात कही।


आदिम जाति सेवा सहकारी संस्था रम्भापुर में संचालकों के चुनाव के बाद निविरोध चुने गए अध्यक्ष, उपाध्यक्ष एवं अन्य संस्था के प्रतिनिधि* *रम्भापुर सोसाइटी के अध्यक्ष बने कमलसिंह हाडा (भुंडीया )*

*ब्युरो दशरथ सिंह कट्ठा झाबुआ...9685952025* झाबुआ - जिलें के मेघनगर के ग्राम रम्भापुर में आदिम जाति सेवा सहकारी संस्था के संचालको के चुनाव 2...