शनिवार, 9 मई 2020

मध्यप्रदेश में अपनी तरह का प्रथम अनूठा संयुक्त आयोजन’ अभिमुखीकरण सह प्रशिक्षण का ऑनलाईन कार्यक्रम’



बुरहानपुर  - जिला न्यायधीश अध्यक्ष श्री वीरेंद्र एस पाटीदार के मार्गदर्शन में जिला विधिक सेवा प्राधिकरण, बुरहानपुर द्वारा महिला एवं बाल विकास विभाग, बुरहानपुर के सहयोग से कानून विद, पैरालीगल वालंटियर, कानून के विद्यार्थी, किशोर-किशोरियो, महिलाओ तथा समाजसेवी संस्थाओ के लिए कोविड़-19 के दौरान बच्चो, किशोरो एवं महिलाओं की मनो सामाजिक स्थिति को समझते हुए व्यवहार करना तथा घरेलू हिंसा के मामले पर अधिक से अधिक लोगो तक सही जानकारी पहुचाने हेतु ऑनलाईन अभिमुखीकरण सह प्रशिक्षण आयोजित किया गया।
कार्यक्रम मंे एड़ीजे नरेन्द्र पटेल, सचिव जिला विधिक सेवा प्राधिकरण ने कानूनी प्रावधानो की जानकारी देते हुए बताया कि महिला हिंसा को लेकिन विभिन्न कानून है जो उनकी सुरक्षा और अधिकारो को बताते है। आपने बताया कि जिला विधिक सेवा प्राधिकरण पीड़ितो को निशुल्क कानूनी सहायता उपलब्ध कराता है वर्तमान मे महिलाए बाल विकास विभाग के वन स्टाँप सेन्टर के लिए निशुल्क कानूनी सहायता हेतु महिला पैनल अधिवक्ता की नियुक्ति की गई है सभी पैरालीगल वांलटियर अधिक से अधिक लोगो को सोशल मीड़िया सहित अन्य आँनलाइन गतिविधियो के माध्यम से जागरूक करने का काम कर रहे है।
प्रशिक्षण कार्यक्रम मे संगिनी जेड़र रिसोर्स सेन्टर की प्रतिनिधि श्रीमती प्रार्थना मिश्रा द्वारा घरेलू हिंसा के सामाजिक पहलू पर प्रतिभागियो से चर्चा की गई आपने विभिन्न केस स्टड़ी के माध्यम से भी महिलाओं के प्रति होने वाले व्यवहार पर चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि पैरालीगल वांलटियर, स्वयंसेवी संस्थाये, आँगनवाड़ी कार्यकर्ता, स्कूल व काँलेज मे अध्ययन किशोर और युवाओ का समूह तथा विभिन्न क्षेत्रो मे कार्यरत जमीनी कार्यकर्ता इसकी जागरूकता में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकते है।
महिला बाल विकास अधिकारी श्री सुमन कुमार पिल्लई द्वारा विभाग के कार्याे की जानकारी देते हुए किए जा रहे प्रयास पर अपनी बात रखी। उन्होंने बताया कि कि वन स्टाँप सेंटर महिलाओं के मुददे पर गंभीरता से काम कर रहा है और अलग-अलग परियोजनाओं में आँगनवाड़ी कार्यकर्ता इसके साथ-साथ बाल विवाह और लिंगानुपात बढाने की जागरूकता के लिए विशेष प्रयास कर रही है। बाल कल्याण समिति, बुरहानपुर के सदस्य श्री संदीप शर्मा  ने बच्चो और किशोरो द्वारा मोबाइल उपयोग को लेकर कहा कि उनकी मनोवैज्ञानिक स्थिति को समझते हुए व्यवहार करने की जरूरत है।
एड़ीजे श्री नरेन्द्र पटेल सचिव जिला विधिक सेवा प्राधिकरण  एवं सुमन कुमार पिल्लई, कार्यक्रम अधिकारी महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा प्रतिभागियों के प्रश्नो के उत्तर भी दिये गये। इस अवसर पर श्री सोनी प्राचार्य, विधि महाविद्यालय, बुरहानपुर, श्री रघुनाथ महाजन पूर्व अध्यक्ष बाल कल्याण समिति, बुरहानपुर, रेखा भोड़वे, प्रभारी वन स्टॉप सेन्टर, सुश्री इन्दु सारस्वत एवं सीमा जैन, ममता संस्था ने भी अपने विचार व्यक्त किए। कार्यक्रम का संयोजन सुनीलसेन, जिला समन्वयक, ममता यूनिसेफ समर्थितद्वारा किया गया।


नकली दस्तावेजों के आधार पर जमीन बेचने वाले को न्यायालय ने दिया पाक 5 वर्ष का सश्रम कारावास

 अतिरिक्त‍ लोक अभियोजक श्री सुनील कुरील अभियोजित एक महत्वपूर्ण प्रकरण में मा. अपर सत्र न्यायाधीश श्री आर.के.पाटीदार बुरहानपुर द्वारा आरोपीगण...