रविवार, 7 जून 2020

दैनिक दिनचर्या में यह पंचसूत्र अपनाएंगे तो कोरोना से खुद के साथ-साथ परिवार और समाज की भी सुरक्षा कर सकते है- महेश मावले (सम्पादक- पब्लिक लुक न्यूज )


कोरोना आजकल में खत्म होने वाला वायरस नहीं है। कोरोना वायरस से हमें कैसे सुरक्षति रहना है और अपने परिवार और समाज के लोगों को बचाना है। जिसकी सुरक्षा हमें ही करना पड़ेगी। तब जाकर हम कोरोना वायरस से बच पाएंगे। कोरोना वायरस में सावधानी ही सुरक्षा है केवल मास्क लगाने से हम कोरोनावायरस से सुरक्षति नहीं रह सकते। इसके अलावा भी हमें कई सावधानियां बरतनी होगी। तभी हम कोरोना से बच सकते हैं। एक ही मास्क को लगातार नहीं पहनना चाहिए अल्टरनेट उसे बारी बारी से पहन सकते हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने अपनी पहले की स्थिति में बदलाव करते हुए कोरोनावायरस (Coronavirus) के प्रसार को रोकने के लिए नई गाइडलांइस जारी की हैं, इनके मुताबिक अब सभी को पब्लिक में जाते वक्त थ्री लेयर वाला फैब्रिक मास्क या नॉन मेडिकल मास्क पहनना होगा. जिनकी उम्र 60 साल से ज्यादा है और किसी तरह की अन्य बीमारी से ग्रसित हैं तो ऐसे लोग उन जगहों पर जहां सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना संभव नहीं है, मेडिकल मास्क पहन सकते हैं. इसके अलावा बाकी के अन्य लोगों को थ्रीलेयर फैब्रिक मास्क का इस्तेमाल करने को ही कहा गया है, ये मास्क संक्रामक बीमारी होने से बचाता है. कोरोनावायरस को लोग अभी भी मजाक में ले रहे हैं। मास्क को लेकर महिलाएं ज्यादा लापरवाह हैं। वह साड़ी का पल्लू लपेट कर अपने आप को सुरक्षति महसूस करती है। जबकि ऐसा नहीं है कोरोनावायरस से अब हमें ही आत्मविश्वास के साथ अपनी सुरक्षा करनी पड़ेगी। अब तो लॉक डाउन भी हट गया है अब हमें और अधिक सुरक्षा की आवश्यकता है। मेरे मतानुसार यदि यह 5 सुत्र अपनाकर चलेंगे तो हम अपने साथ-साथ अपने परिवार और अपने समाज की सुरक्षा भी कर सकते हैं। पंच-सूत्र, जैसे: 1. घर से बाहर निकलने पर फेस मास्क का इस्तेमाल करना,साबुन या सेनेटाईजर से हाथ धोने, एक दूसरे से दो गज की दूरी, हमेशा हल्का गर्म पानी पीना, अगर कोरोना के लक्षण दिखाई दे, तो नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र में जांच अवश्य कराये


कुल्हाडी मार कर अस्थिभंग करने के मामले में आरोपी को दो वर्ष की सजा और अर्थदण्ड

 छतरपुर- कुल्हाडी मार कर अस्थिभंग करने के मामले में कोर्ट ने फैसला दिया। बिजावर अपर सत्र न्यायाधीश की अदालत ने आरोपी को दो साल की कठोर कैद क...