सोमवार, 1 जून 2020

नुकसान का शीघ्र-अतिशिघ्र सर्वे कर शीघ्र मुआवजा राषि वितरित करें-पूर्व कैबिनेट मंत्री श्रीमती अर्चना चिटनिस


बुरहानपुर। (मेहलका अंसारी) मध्यप्रदेष की पूर्व कैबिनेट मंत्री श्रीमती अर्चना चिटनिस (दीदी) ने बुरहानपुर कलेक्टर को से चर्चा एवं पत्र के माध्यम से आरबीसी 6-4 के अंतर्गत केले की फसल पर प्राकृतिक आपदा आने के कारण शीघ्रता-शीघ्र सर्वे एवं मुआवजा राशि वितरण करने की बात कही। पूर्व श्रीमती अर्चना चिटनिस ने कहा कि हमारे बुरहानपुर जिले में केला एक मुख्य फसल है, 31 मई 2020 को बुरहानपुर जिले के नेपानगर विधानसभा क्षेत्र के रतागढ़, बीड़, नावरा, सीवल, डाबिया, नसीराबाद, सिरपुर एवं नेपानगर ग्रामीण क्षेत्र में अंघड़ एवं तेज हवा आंधी तूफान की वजह से लगभग एक लाख केले के फलदार पौधों का नुकसान हुआ है। इसका शीघ्रता-शीघ्र ठीक तरीके से सर्वे होकर मुआवजा राशि तत्काल दी जाए। श्रीमती चिटनिस ने कहा कि अंघड़ आने की वजह से कुछ पौधे तो पूर्ण रूप से टूटकर जमीन पर गिर जाते है लेकिन कुछ पौधे जड़ों के टूट जाने के बावजूद भी 100 प्रतिशत क्षतिग्रस्त होकर खड़े रहते है। अतः सर्वे करने वाली टीम को स्पष्ट निर्देश दिया जाए कि ऐसे पौधों को भी क्षतिग्रस्त माना जाए, इस प्रकार का सर्वे करने पर ही हम किसान के साथ न्याय कर पाएंगे। श्रीमती चिटनिस ने कहा कि हमारे किसान भाईयों का इस वर्ष देशभर में लॉकडाउन एवं बुरहानपुर में कर्फ्यू होने की वजह से पहले ही बहुत नुकसान हो चुका है। गत वर्ष इस समयावधि में केले का भाव लगभग 1500 से 2000 रूपए प्रति क्विंटल था, वह इस वर्ष केवल औसत 300 रूपए प्रति क्विंटल के आसपास है। किसान को अपना केला मजबूरी में बेचना पड़ रहा है, साथ ही ऊपर से यह प्राकृतिक आपदा आ गई है। प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अंतर्गत किसान भाईयों के खातों में पैसे आना प्रारंभ हो चुके हैं और जिनके खातों में पैसे नहीं आए हैं वह भी बहुत जल्दी आ जाएंगे परंतु किसान को अपनी खरीफ मौसम की फसल को लगाने के लिए पैसों की जरूरत पड़ने वाली है। इस हेतु शीघ्रता-शीघ्र सर्वे करवाकर पीडि़त किसानों को मुआवजा राशि वितरित करें।


कुपोषित बच्चों को खिलाया पोष्टिक आहार, बताया महत्व

बुरहानपुर। शहर के आलमगंज सेक्टर के अंतर्गत सिंधीपुरा आंगनवाड़ी केंद्र 4 पर बाल भोज कराया गया। कार्यकर्ता मंजू सिंह ठाकुर ने बताया गुरुवार को...