शनिवार, 2 जनवरी 2021

मुख्य टिकट निरीक्षक की सूझबूझ से मिला बैंग......


खण्डवा । भारतीय रेल आपकी सेवा में  इसी को चरितार्थ करने रेलवे कर्मचारी सदैव यात्रियों की सेवा के लिए तत्पर रहते हैं।  इसका एक उदाहरण आज फिर सामने आया है।खण्डवा स्टेशन पर कार्यरत रेलवे के उपमुख्य टिकट निरीक्षक गण श्री रमाकर प्रसाद राम और श्री अनिल सोनी जी ने अपनी त्वरित कार्यवाही से एक यात्री का गाड़ी में छूट गया बैग उन्हें वापस करवाया है।

हुआ यूँ कि आज  दोपहर तीन बजे के करीब 02779 DN गोवा एक्सप्रेस से टिकट चेक करते हुए खण्डवा आये और  दोनों कर्मचारीगण ऑफिस पहुंचे तभी प्लेटफॉर्म  एक से 01062 पवन एक्सप्रेस भी छूट रही थी। एकाएक एक पुरुष यात्री रोशनलाल बर्मन ( मोबाइल 7987241019 )अपनी पत्नी के साथ उनके पास पहुंचे । दोनों काफी हैरान परेशान दिख रहे थे। यात्रियों ने बताया कि वे अभी-अभी पवन एक्सप्रेस से जबलपुर से खण्डवा आये हैं। PNR 6745378182 वाले टिकट पर हमारी S-3 कोच में बर्थ 18 और 19 थी। उतरने के बाद हमें पता चला कि हमारा एक बैग जिसमें एक लेपटॉप और जरूरी दस्तावेज थे, वो 19 नम्बर बर्थ पर ही छूट गया है। 

ये सुनकर  रमाकर प्रसाद राम ने तुरंत पवन एक्सप्रेस के ऑन ड्यूटी टीटीई का पता लगाया और उनसे संपर्क की कोशिश की। और साथ ही बुरहानपुर में पदस्थ टीटीई  कमलेश को सम्पूर्ण घटनाक्रम बताया। इस सूचना के चलते पवन एक्सप्रेस के बुरहानपुर पहुंचते ही कमलेश कोच S-3 में बर्थ 19 पर पहुंचे और देखा तो वो बेग वहीं रखा हुआ था।वे बेग लेकर उतर गए ।  राम द्वारा बुरहानपुर के टीटीई से आग्रह किया कि इस समय खण्डवा की ओर आ रही ताप्ती गंगा एक्सप्रेस से बैग खण्डवा पहुंचा दिया जाय। तत्पश्चात  कमलेश ने ताप्ती गंगा एक्सप्रेस से बैग खण्डवा पहुंचा दिया जहाँ आर पी राम,  सोनी और यात्री द्वय उपस्थित थे। अपना बैग पाकर सिंगाजी पावर प्लांट में अधिकारी  रोशनलाल अभिभूत हो गए। उन्होंने कहा - मैं तो सोच भी नहीं सकता था कि रेलवे के टीटीई इस तरह निस्वार्थ भाव से मेरे बेग को ढूंढने में मदद कर सकते हैं। मुझे तो कुछ समझ  ही नहीं पड़ रहा था कि क्या करूँ। इनकी त्वरित कार्यवाही से ही मेरा  बैग इतनी जल्दी मेरे पास पुनः आ गया।यात्रियों द्वारा इस तरह के सहयोग, सहायता के लिए रेल प्रशासन की भूरि भूरि प्रशंसा की।...मुईन अख्तर खान

ज्यादती के आरोपी को दस वर्ष का सश्रम कारावास

 राजगढ जिले में पदस्थ माननीय विशेष न्यायाधीश पॉक्सो एक्ट डॉ. अंजली पारे राजगढ ने विशेष सत्र प्रकरण क्रमांक 85/19 धारा 363,366,376(1)(2) एवं ...