रविवार, 31 जनवरी 2021

बोर्ड परीक्षाओं पर भी कोरोना का असर, इस वर्ष डेढ़ माह देरी से प्रारंभ होगी परीक्षाऐं माशिमं ने जारी किया टाईम, परीक्षा में भी दिखेंगे बदलाव


खिरकिया। कोरोना के चलते इस वर्ष शिक्षा सत्र ही प्रभावित नही हुआ बल्कि बोर्ड परीक्षाओ पर भी इसका असर दिखेगा। प्रतिवर्ष मार्च माह में प्रारंभ होने वाली हाईस्कूल व हायर सेकंडरी कक्षाओ की परीक्षा इस वर्ष अप्रैल माह के अंत से प्रारंभ होकर मई तक चलेगी। माध्यमिक शिक्षा मंडल (माशिमं) की हाईस्कूल और हायर सेकंडरी परीक्षा इस बार 30 अप्रैल से शुरू होगी। हाईस्कूल परीक्षा 15 मई और हायर सेकंडरी परीक्षा 18 मई तक चलेगी। बीईओ ए एस राजपूत ने बताया कि दोनों परीक्षाओं में खिरकिया ब्लॉक के लगभग 4 हजार विद्यार्थी शामिल होंगे। बोर्ड परीक्षाएं हर साल फरवरी या मार्च माह में शुरू हो जाती थीं। पर इस बार कोरोना संक्रमण के चलते पढ़ाई के साथ परीक्षा कार्यक्रम भी गड़बड़ा गया है। इस बार परीक्षा दो माह की देरी से शुरू हो रही है। इसलिए परिणाम भी एक से डेढ़ महीने देरी से यानी जून अंत या जुलाई माह की शुरुआत में आने की संभावना है। आमतौर पर हायर सेकंडरी की परीक्षा में सवा महीने से ज्यादा समय लगता है, पर समय पर परिणाम देने की आवश्यकता के चलते इस बार 14 दिन में परीक्षा पूरी करवाई जाएगी। हाईस्कूल परीक्षा भी 

इस बार कोरोना संक्रमण के चलते माध्यमिक शिक्षा मंडल ने पढ़ाई के साथ ही इस साल बोर्ड परीक्षा को लेकर कई बदलाव भी किए हैं.। इस बार छात्रों को परीक्षा के दौरान ओएमआर शीट दी जाएगी। इसमें छात्रों को बहु वैकल्पिक प्रश्नों के जवाब लिखना होंगे। इस बार हर विषय के प्रश्न पत्र तीन श्रेणियों में बंटे होंगे। पहली श्रेणी वस्तुनिष्ठ प्रश्नों (बहु वैकल्पिक प्रश्न) की होगी।दूसरी श्रेणी में विषय परक व तीसरी में विश्लेषणात्मक प्रश्न पूछे जाएंगे। छात्रों को परीक्षा में 50 प्रश्न हल करने को दिए जाएंगे। परीक्षा में लिखने के लिए कॉपियां तो मिलेंगी इसके साथ ही 30 वस्तुनिष्ठ प्रश्नों को आधा घंटे में हल कर ओएमआर शीट पर विकल्प को टिक करना होगा। इसके पश्चात छात्रों को उत्तर पुस्तिका दी जाएगी जिसमें 20 प्रश्नों को निश्चित शब्द सीमा में हल करना होगा। माशिमं द्वारा बोर्ड परीक्षा के पूर्व वेबसाइट पर प्रश्न बैंक अपलोड किए जाएंगे। हर विषय के प्रश्न बैंक में 500 से ज्यादा प्रश्न होंगे। इस बार बोर्ड परीक्षा का पेपर प्रश्न बैंक से ही बनाया जाएगा। प्रश्न बैंक के बाहर से प्रश्न नहीं पूछे जाएंगे।इस वर्ष कोरोना के कारण कक्षाऐं नहीं चली हैं। छात्रों की पढ़ाई नहीं होने के कारण माशिमं द्वारा कोर्स में 30 फीसदी की कटौती की गई है। इस बार बोर्ड परीक्षा में 70 प्रतिशत पाठ्यक्रम में से ही प्रश्न पूछे जाएंगे। परीक्षा के पैटर्न में यह बदलाव इस वजह से किया जा रहा है ताकि परीक्षा का रिजल्ट भी जल्द जारी हो सके।

ज्यादती के आरोपी को दस वर्ष का सश्रम कारावास

 राजगढ जिले में पदस्थ माननीय विशेष न्यायाधीश पॉक्सो एक्ट डॉ. अंजली पारे राजगढ ने विशेष सत्र प्रकरण क्रमांक 85/19 धारा 363,366,376(1)(2) एवं ...