गुरुवार, 4 फ़रवरी 2021

रोगी कल्याण समिति सचिव पाटनी ने किया डीजल भ्रष्टाचार 23 महीने में लाखों रुपये का डीजल जला दिया


हरदा ।हरदा जिले में पिछले बीस साल से एक छत्र राज कर रहे अस्पताल बाबू ने डीजल के नाम पर भ्रष्टाचार का नयादौर रच दिया  जिसकी भनक सम्बंधित विभाग को भी नहीं है परन्तु सूचना के अधिकार खुलासे में सब कुछ आईना दिखाई दिया ।


कांग्रेस प्रवक्ता गगन अग्रवाल ने सूचना के अधिकार जानकारी मांगी जिसमें मालूम हुआ कि जिला अस्पताल की रोगी कल्याण समिति में विगत 5 वर्षों से भी अधिक समय से रोगी कल्याण समिति के कर्मचारी  राजेश पाटनी एवं समिति के तात्कालीन सचिव द्वारा आर्थिक रुप से जमकर भ्रष्टाचार किया गया है। उक्त आरोप जिला कांग्रेस प्रवक्ता गगन अग्रवाल ने लगाते हुए प्रेस विज्ञप्ति जारी कर बताया कि जिला रोगी कल्याण समिति हरदा से सूचना का अधिकार अधिनियम 2005 के तहत प्राप्त जानकारी के अनुसार 30 अप्रैल 2017 से 28 फरवरी 2019 तक यानी 23 महीने के रिकार्ड का अवलोकन करने पर पाया गया, कि रोगी कल्याण समिति द्वारा जमकर भ्रष्टाचार किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि आरटीआई से निकाली जानकारी के अनुसार जिला अस्पताल के जनरेटर में डीजल के नाम पर उक्त अवधि के 23 महीने में 4 लाख 72 हजार 65 रुपये का डीजल जला दिया गया। वहीं सूचना के अधिकार अधिनियम 2005 के तहत बिजली कंपनी से निकाली गई जानकारी के अनुसार उक्त अवधि के 23 महीनों में गुजर्र बोर्डिंग फीडर के अंतर्गत कुल 255 घंटे बिजली बंद रही। जिसमें ट्रिपिंग, परमिट, ब्रेक  डाउन के तहत बिजली बंद की गई है। ज्ञात हो कि जिला अस्पताल गुर्जर बोर्डिंग फीडर के अंतर्गत ही आता है। गगन अग्रवाल ने बताया कि जिला अस्पताल में चार जनरेट का  उपयोग किया जा रहा है। यदि एक घंटे में एक जनरेटर 5 लीटर डीजल खपत होती है तो चार जनरेटों  में एक घंटे में 20 लीटर डीजल की खपत होगी। इस प्रकार 255 घंटे में 5100 लीटर डीजल  खपत होती है। उन्होंने बताया कि यदि 70 रुपये प्रति डीजल के हिसाब से भुगतान किया जाए तो 3  लाख 57 हजार रुपये का भुगतान माना जाएगा। लेकिन जिला रोगी कल्याण समिति द्वारा सूचना के अधिकार के तहत दिए गए डीजल के बिल में उक्त जनरेटरोें पर जला दिया गया है। 4 लाख 72 हजार  रुपये का डीजल जला दिया गया। उन्होंने यह  आरोप भी लगाया है, कि जिला रोगी कल्याण समिति सचिव  राजेश  पाटनी द्वारा डीजल की राषि के गोलमाल को अंजाम दिया गया है। साथ ही यहां यह भी विचारणीय प्रश्न है, कि विघुत कटौती के दौरान क्या वास्तव में अस्पताल प्रबंधन द्वारा आवष्यक गहन चिकित्सा सुविधा के वार्डों को छोड़कर जनरेटर चालू कर अन्य वार्डों में भर्ती मरीजों को जनरेटर के द्वारा विघुत आपूर्ति प्रदान की गई होगी? मालूम हो कि बिजली कंपनी से प्राप्त जानकारी के अनुसार जून 2018 में 17.30 घंटे बिजली बंद रही । जिसमें रोगी कल्याण समिति द्वारा जून माह में लगभग 51010 रुपये का डीजल जनरेट में खपत कर दिया गया।    

जिला कांग्रेस प्रवक्ता गगन अग्रवाल ने कलेक्टर हरदा से रोगी कल्याण समिति की कैशबुक एवं आर्थिक लेनदेन के सभी दस्तावेजों की क्रय विक्रय अधिनियम के अनुसार जांच की जाए। जिला कांग्रेस प्रवक्ता, हरदा गगन अग्रवाल ने विगत लंबे समय से रोगी कल्याण समिति में पदस्थ कर्मचारी राजेश पाटनी की चल अचल संपत्ति की भी जांच की जाए।

कुल्हाडी मार कर अस्थिभंग करने के मामले में आरोपी को दो वर्ष की सजा और अर्थदण्ड

 छतरपुर- कुल्हाडी मार कर अस्थिभंग करने के मामले में कोर्ट ने फैसला दिया। बिजावर अपर सत्र न्यायाधीश की अदालत ने आरोपी को दो साल की कठोर कैद क...