गुरुवार, 4 फ़रवरी 2021

आखिर कब तक किराए के भवन में संचालित होगा जिला सहकारी केंद्रीय मर्यादित बैंक* *भूमि आवंटन ओर भूमि पूजन के बाद भी आज तक नहीं बन पाया जिला सहकारी केंद्रीय मर्यादित बैंक मेघनगर में*



*इस शासकीय भूमि पर से अतिक्रमण कारी से मुक्त करा पाएंगे क्या जिला कलेक्टर मोहोदय...?*



*आखिर कब बनेगा जिला सहकारी केंद्रीय बैंक शाखा मेघनगर का शासकीय भवन*


*ब्युरो दशरथ सिंह कट्ठा झाबुआ...9685952025*


झाबुआ - जिले के मेघनगर में संचालित जिला सहकारी बैंक आज तक अपने नवीन भवन की बाट देख रहा है! हम आपको बता दे कि वर्तमान में जिला सहकारी केंद्रीय बैंक का संचालन जिस जगह हो रहा है वह किराए का भवन है साथ ही उसकी हालत भी काफी खराब है या  यूं कहें कि जर्जर भवन में बैंक का संचालन किया जा रहा है इस बैंक में अधिकांश खाताधारक ग्रामीण किसान है यहाँ अधिकतर भीड़ लगी रहती है ऐसे में अगर कोई घटना हो गई तो इसका जिम्मेदार कौन यह सबसे बड़ा सवाल है!


*यह हैं पूरा मामला*


मध्यप्रदेश शाशन राजस्व विभाग मंत्रालय भोपाल के पत्र क्रमांक  /6-115/2011/सात/नजूल दिनाक 19/12/2011 में पदत्त निर्देशो के पालन में ग्राम मेघनगर में स्थित शासकीय मंडी नजूल भूमि सर्वे नम्बर 485/मिन-1 पैकी रकबा 114 वर्गमीटर भूमि बिना प्रब्याजी एवं 1/वार्षिक भू भाटक पर प्रबन्धक आदिम जाति सेवा सहकारी संस्था मर्यादित मेघनगर को आंवटित की गई थी ताकि उस जगह पर जिला सहकारी केंद्रीय मर्यादित बैंक झाबुआ शाखा मेघनगर का भवन का निर्माण हो सके जिसके बाद मंडी नजूल भूमि  सर्वे क्रमांक 485/मीन -1 पेकि रकबा 3.472 हेक्टर में से 114 वर्गमीटर भूखण्ड संस्था के भवन लिए आंवटित किया गया था जिस पर उक्त भूमि का भूमि पूजन बैंक  प्रबन्धक पी.एन.यादव द्वारा किया गया था मगर उसके बाद जब उस शासकीय भूमि पर ठेकेदार व बैंक के कर्मचारी उक्त भूमि पर निर्माण करने पहुचे तो अतिक्रमण धारी (रसूखदार) द्वारा अपना कब्जा नही हटाया गया और आज तक बैंक को आंवटित भूमि का कब्जा नही मिल पाया है! ऐसे में अब झाबुआ जिले के माननीय कलेक्टर रोहित सिंह इस और क्या कार्यवाही करते है। एक ओर प्रदेश की शिवराज की सरकार द्वारा भू-माफियाओं और अवेध सरकारी भूमि पर अतिक्रमण कर कब्जा करने वालो को लेकर सख्त है नजर आ रही हैं। क्या शिवराज सरकार की मिशन क्लीन मुहिम का असर यहा मेघनगर में भी होगा या नहीँ ये तो वक्त बताएगा 



*आखिर भूमि आवंटन ओर भूमि पूजन के बाद क्यो नही बन पाया बैंक का अपना भवन* 


मेघनगर के लिए बैंक को भूमि का आवंटन वर्ष 2013 में स्थानीय कलेक्टर की अनुशंसा पर किया गया था मगर अब इस भूमि पर एक कथित परिवार  द्वारा अपने रसूख के दम पर अतिक्रमण कर उस शासकीय भूमि पर कच्ची पक्की झोंपड़ी बना कर रह रहा हैं। जिसको हटाने के लिए प्रशासन द्वारा प्रयास तो किये गए मगर नतीजा सिफर रहा अब देखना है कि आखिर शिवराज सरकार की मिशन भू-माफिया मुहिम की गाज यहां गिरेगी। कलेक्टर महोदय स्थानीय प्रशासक एसडीएम एल.एन.गर्ग को उस अतिक्रमण कारी पर कड़ी कार्यवाही कर उसे शासकीय भूमि से हटवाने के आदेश देंगे क्या। और आदेश मिलने के बाद मेघनगर एसडीएम एल.एन. गर्ग इस मामले को लेकर बड़ा कदम उठाये ताकि जल्द से जल्दी उस शासकीय भूमि पर जिला सहकारी केंद्रीय मर्यादित बैंक का नवीन भवन बन सके और किराये इस जर्जर भवन से मुक्ति मिल सके...


*पार्ट 2 में पढ़िए*


*शासन के आदेश की किस तरह उड़ी धज्जियां* 


*कागजो में क्या चल रहा है इस भूमि को लेकर* 


*ओर भी बहुत कुछ*

कुल्हाडी मार कर अस्थिभंग करने के मामले में आरोपी को दो वर्ष की सजा और अर्थदण्ड

 छतरपुर- कुल्हाडी मार कर अस्थिभंग करने के मामले में कोर्ट ने फैसला दिया। बिजावर अपर सत्र न्यायाधीश की अदालत ने आरोपी को दो साल की कठोर कैद क...